कालसर्प दोष निवारण उपाय

अगर आप भी है कालसर्प सर्प दोष से परेशान और चाहते हो इस दोष से पूर्ण रूप से छुटकारा, तो आज हम आपके लिए लेकर आए है कालसर्प दोष के 14 आसान और महत्वपूर्ण उपाय जो दिला सकते है आपको कालसर्प दोष से मुक्ति। कालसर्प दोष के उपाय आपकी कुंडली मे चल रहे कालसर्प दोष के दुष्प्रभावो को दूर करने मे आपकी मदद कर सकते है।

कालसर्प दोष के कारण आपकी साधारण जिंदगी मे बहुत सारी परेशानियाँ उत्पन्न हो जाती है, और दिनों दिन आपकी ये परेशानियाँ बड़ती ही रहती है। इन सभी परेशानियों को दूर करने के लिए नीचे कालसर्प दोष के उपाय दिए गए है, आप इन उपायों को अपनाकर अपने जीवन से सभी परेशानियों को दूर कर सकते हैं। 

कालसर्प दोष के उपाय-ज्योतिषीय और आध्यात्मिक समाधान

कालसर्प दोष निवारण उपाय

नीचे दिए गए उपायों को अपनाकर जातक कालसर्प दोष के नकारात्मक प्रभावों को कम कर सकता है और इस कालसर्प योग के हानिकारक प्रभावों से खुद को बचा सकता है।

  1. जातक लगातार सात दिनों तक राहु काल के समय, माता सिंहिका का ध्यान करें एवं ध्यान के वक्त “ओम नमः शिवाय” मंत्र का 108 बार जप करें। 
  2. कालसर्प दोष से पीड़ित व्यक्ति को भगवान शंकर की पूजा अवश्य करनी चाहिए। इसी के साथ नाग देवता की पूजा भी अवश्य करें। 
  3. महामृत्युंजय मंत्र का प्रतिदिन 108 बार जाप करें, यह आपके दिल को सकारात्मक विचारों और आत्मविश्वास से भर देगा।
  4. जातक को चाँदी से बने नाग-नागिन के जोड़े की पूजा करके उसे जल मे बहा देना चाहिए।
  5. जातक को नागपंचमी के दिन सपेरे से नाग या नाग-नागिन का जोड़ा पैसे देकर जंगल में स्वतंत्र करना चाहिए।
  6. किसी ऐसे शिव मंदिर में, जहां शिवजी पर नाग नहीं हों, वहां प्रतिष्ठा करवाकर नाग चढ़ाएं।
  7. चंदन की लकड़ी के बने 7 मौली प्रत्येक बुधवार या शनिवार शिव मंदिर में चढ़ाएं।
  8. जातक को नागपंचमी के दिन पास के ही शिव मंदिर मे जाकर साफ सफाई करके शिव जी की पूजा करनी चाहिए।
  9. जातक को हर शनिवार के दिन पीपल को जल चढ़ाना चाहिए और पीपल की सात परिक्रमा करनी चाहिए।
  10. पीड़ित व्यक्ति को गरीब बच्चो को कंबल दान करना चाहिए।
  11. जातक को सावन के महीने मे प्रत्येक सोमवार को व्रत रखना चाहिए और साथ ही शिव जी की पूजा करनी चाहिए।
  12. जातक को श्रावण के महीने मे प्रतिदिन शिवलिंग पर जल एवं दूध चड़ाना चाहिए।
  13. काल सर्प दोष से छुटकारा पाने के लिए सोमवार, मासिक शिवरात्रि, महाशिवरात्रि, त्रयोदशी, इत्यादि तिथियों पर भगवान शिव का विधिवत रुद्राभिषेक करना चाहिए. इसके साथ ही मिट्टी से सवा लाख महादेव बनाकर उनकी पूजा करने भी काल सर्प दोष का असर कम होता है।
  14. जातक को कालसर्प दोष की महत्वपूर्ण तिथियों पर ही कालसर्प दोष निवारण पूजा करवाना चाहिए।

कालसर्प दोष दूर करने का 1 रामबाण उपाय

ऊपर दिये गए कालसर्प दोष निवारण उपाय आपकी मदद सिर्फ कालसर्प दोष के नकारात्मक प्रभावों को कम करने मे कर सकते है, अगर आपको इस दोष से पूर्णत: मुक्ति चाहिए, तो उसके लिए आपको कालसर्प दोष निवारण पूजा करवाना अनिवार्य है। क्यूंकी कालसर्प दोष निवारण पूजा इकलौता ऐसा उपाय है, जिसके जरिये आप कालसर्प दोष को अपनी कुंडली से दूर कर सकते हो।

अगर आप उज्जैन मे कालसर्प दोष निवारण पूजा करवाना चाहते है, तो आप हमारे पंडित दीपक व्यासजी से संपर्क कर सकते है, और उनसे बात करके आप फ्री मे कालसर्प दोष और इसके निवारण के बारे मे काफी अच्छे तरीके से जान सकते है। अभी पंडित जी से बात करने के लिए नीचे दिये गए बटन को दबाएँ और बात करे।

Call Now

कालसर्प दोष का 1 रामबाण उपाय क्या है?

कालसर्प दोष को हमेशा के लिए दूर करने के लिए कालसर्प दोष निवारण पूजा ही एकमात्र रामबाण उपाय है।

कालसर्प दोष के असर को कम केसे किया जा सकता है?

जातक लगातार सात दिनों तक राहु काल के समय, माता सिंहिका का ध्यान करें एवं ध्यान के वक्त “ओम नमः शिवाय” मंत्र का 108 बार जप करें। ऐसा करने से आपकी कुंडली मे से कालसर्प दोष का असर कम हो जाएगा। 

उज्जैन में कालसर्प दोष की पूजा में कितना खर्चा आता है?

उज्जैन मे कालसर्प दोष की पूजा मे 2100,5100 से 11000 तक का खर्चा आ सकता है। ये आप पर निर्भर करता है की आप कोनसी पूजा कराते है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *